Tuesday, September 22, 2009

लाइलाज

प्रेम अगन है ऐसी जुदा ना हो पावोगी हमसे

जुस्तजू है ऐसी भुला ना पावोगी हमें

लगी है ऐसी दूर ना रह पावोगी हमसे

क्योकि मर्ज लाइलाज लगा लिया तुमने दिल से

No comments:

Post a Comment