Tuesday, September 22, 2009

दिल की पुकार

ऐ दिल पुकारे

तू चली है कहा

सुन जा दिल की आवाज़

चली आ मेरे पास

यू ना दिल दुखा

यू ना अब ओर सता

हर सिकवे को भुला

अब तो चली आ

चली आ चली आ

सुन के दिल की पुकार

चली आ चली आ

जाते कदमो को रोक लो

तेरे बिन जी ना पाऊ ऐ जान लो

तू अब तो चली आ चली आ

सुन के दिल पुकार

चली आ चली आ

No comments:

Post a Comment