Thursday, October 29, 2009

बंजारे

बंजारे हम बंजारे

भटके फिरे गली गली

आज यहाँ कल वहां

सीधे सादे हम बंजारे

प्यार की भाषा हम जाने

चाहो जो हमें अपनाना

तो पहले है कबीले को अपनाना

चाहे जो भी हो जावे

टूटने न दे कबीले की मर्यादा

बंजारे हम बंजारे

No comments:

Post a Comment