Monday, October 12, 2009

अनुभूति

दिल ऐ कह रहा है

मन ऐ तड़प रहा है

तेरे आलिंगन में कोन सा जादू है

तेरी अनुभूति का अहसास तेरे

जाने के बाद भी हो रहा है

तेरे बिना ये दिल अब चहक नही रहा है

मन महक नही रहा है

ये मेरे दिल को क्या हो रहा है

तेरी यादो में डूबा जा रहा है

No comments:

Post a Comment