Saturday, October 24, 2009

प्रतिभा

कलाकार की कल्पना

रचनाकार की रचना

मोहताज नही कद्रदानों की

अनुभूति प्रेरणा बन कृति बन जाए

विचार धाराए नई करवटे लेने लगे

मंथन हो कला साकार हो निखारने लगे

कसर ना कोई रह जाए

कोशीस अगर यही हो तो

प्रतिभा असर हर ओर नजर आए

No comments:

Post a Comment