Tuesday, October 27, 2009

स्पर्श

जब कभी मन हो उद्दास

तो याद मुझे करना तुम

जब कभी मेरी याद सतावे

चाँद में मेरा अक्स निहारना तुम

जब कभी आए मेरा ख्याल

हवाओ में मेरा स्पर्श अनुभव करना तुम

जब कभी करनी हो दिल की बात

हौले से आवाज़ लगना मुझे तुम

पास मुझे अपने पाना तुम

No comments:

Post a Comment