Saturday, October 17, 2009

तक़दीर

खुश किस्मत होते है वो

बिन मांगे जिन्हें मिले प्यार की सोगात

चंदा सूरज चले इनके साथ

नभ भी झुक कर इन्हे करे प्रणाम

तक़दीर इनकी इतलाये देख ग्रह नक्षत्रो की चाल

जीवन इनका गुजरे प्यार भरी ठंडी छाव

मरके भी ये रोशन करे जहाँ

बन के सितारा झिलमिल करे उनके साथ

है ये किस्मत की बात

उदास ना होवो मेरे यार

क्या पता तुम ही हो वो खुशनसीब इंसान

No comments:

Post a Comment