Saturday, January 9, 2010

रब सुन रहा है

दिल कह रहा है

रब सुन रहा है

दुआ कर रहा है

तुम खुश रहो सदा

मन ये कह रहा है

होगी हर दुआ कबूल मेरी

हर जनम होगी तू ही मेरी

हर दुआ में बस तेरा ही नाम है

बिन तेरे जीना दुश्वार है

होती नही कबूल दुआ

जब उसमे शामिल तेरा नाम नही

No comments:

Post a Comment