Sunday, January 3, 2010

तू मैं

कौन तुम हो कौन मैं हु

उलझा हुआ बड़ा ही मसला है

क्यों ना ऐसा करे

हल कोई ऐसा निकाले

फिर ना कभी तू तू मैं मैं हो

पहचान कहीं खो ना जाए

बेहतर यही हो

तुम तुम हो मैं मैं हु

इससे अच्छा ओर कोई समाधान नहीं

सुलझ जायेगी उलझन

जो इस पहेली को समझ जाओगे

No comments:

Post a Comment