Sunday, January 17, 2010

वीर जवान

माटी कह रही है पुकार

सुनलो मेरे वीर जवान

सरहद पे दुश्मन ने कर दिया है वार

मातृभूमि की करने रक्षा

शोर्य पराक्रम की गाथा लिखने

मेरे वीर सपूतों करने अपना जीवन बलिदान

हो जाओ तुम त्यार

पुकार रही है मातृभूमि आज

देश की लाज है अब तुम्हारे हाथ

सुनलो मेरे वीर जवान

दुश्मन को पीठ ना दिखलाना तुम

वतन की खातिर हँसते हँसते

प्राण न्योछावर कर जाना तुम

No comments:

Post a Comment