Saturday, January 2, 2010

दिशाहीन

चलते चलते कदम थक जायेंगे

जब ना कोई लक्ष्य होगा पास

दिशाहीन हो भटकते रह जाओगे

जो हताशा में मायूसी का दामन थाम लोगे

No comments:

Post a Comment